Thursday, October 18, 2018

मैथिली किस्सा – गोनू झाक चारिटा बेटा

मैथिली किस्सा: गोनू झाकेँ बेर-बेर चोरक चक्कर लागल रहैत छलनि। मुदा हुनका तकर डर रंचमात्रो नहि होइत छलनि। एहिना एक बेर ओ पंडिताइनक संगे घरमे पड़ल-पड़ल सुतबाक उपक्रम क रहल छलाह।

Gonu Jha Son Story (MaithiliSamachar)

मैथिली किस्सा – गोनू झाकेँ बेर-बेर चोरक चक्कर लागल रहैत छलनि। मुदा हुनका तकर डर रंचमात्रो नहि होइत छलनि। एहिना एक बेर ओ पंडिताइनक संगे घरमे पड़ल-पड़ल सुतबाक उपक्रम क रहल छलाह। राती निसभेर भ गेलनि तैयो ओ गप्पे क रहल छलाह। मुदा चोरबा सभ हुनका सुति रहल रहबाक भ्रममे सेन्ह मारि घरमे प्रवेश क गेल। घरक भीतर अबैत ओ सभ देखलक जे ई त जगले छथि। मोन मसोसिक रहि गेल। जा धरि ई जागल रहताह, चोरि करब संभव नहि बुझि ओ सभ धरनि पर चढि हुनका सुतबाक प्रतिक्षा कर लागल।

गोनू झाकेँ पाहून सभकेँ आबि जयबाक भनक लागि गेल छलनि। ओ एकरा सभसँ मुक्त्त होयबाक व्योंत सोच लगलाह। किछु नहि फुरलनि तं पंडिताइनकेँ कहलथिन एकटा एकदम चोटगर बात – सुनै छी?? पंडिताइन कहलखिन – ऊँ। गोनू झा कहलखिन – हमरा एकटा पंडित हाथ देखि कहलक अछि जे अहाँकेँ चारिटा बेटा होयत।

इहो पढू : मैथिली किस्सा – गोनू झा के भैयारी संग बंटवारा

पंडिताइन कहलखिन – “दुर जाउ।” गोनू झा कहलखिन – “लाज भ गेल?” पंडिताइन कहलखिन – “लाज किए होयत। मुदा जेहन अहाँ अपने छी, तेहने अहाँक पंडित अछि।” पंडिताइन के बात सुनि गोनू झा कहलखिन – से किए? हमरा बेटा नै होयत? पंडिताइन दोसर करोट दिस घुमैत कहलखिन – “जाउ, हमरा सूत दिअ। दुपहर राति भेलै आ अहाँ अखनो धरि अदखोइ-बदखोइ मे लागल छी।”

मुदा गोनू झा एकसरे बजैत रहलाह, कहलथिन- हम अपन होव वला चारू बेटाक नामकरणो क लेलहूँ अछि। पंडिताइन गोनू झाक बात पर भीतरे-भीतरे प्रसन्नो होइत छलीह। हिनक वाक्य, पर किछु बजलीह त नहि, मुदा पुछबाक मुद्रामे हुनका दिस नजरि उठौलनि के देखलैथ। गोनू झा आगू कहलखिन – हँ, त सुनू। गोनू झा पलथा मारिक बैसैत बजलाह – जेठकाक नाम राखब लूटन, दोसरक भूखन, तेसरक छोटन आ चारिमक चोर।

इहो पढू : मैथिली किस्सा – गोनू झाक माछ आ नौआ

पंडिताइन हुनकर बात सुनि के कहलखिन – “मर्र, चोर कतौ नाम भेलैए हन।” गोनू झा कहलखिन – नइं भेलैए, तेँ ने हम रखबै। आखिर बेटा ककर हेतै? पंडिताइन कहलखिन – “हँ, त एहन मूहँपुरुख दोसर क्यो छै मिथिलामे।” गोनू झा खुश होइत कहलखिन – त ताहुमे अहाँकेँ भ्रम बुझाइए। पंडिताइन कहलखिन – जाउ, जे मोन होअय, राखू। किदन कहलकै जे पानीमे मछरी, नओ-नओ कुट्टी क बखरा। आ ई करोट फेरि लेलनि। मुदा एखनो गोनू झाक गप्पक मोटरीक सठल नहि छलनि। पंडिताइनकेँ गट्टा पकडैत अपना दिस करैत कहलथिन – पांच बापुत रहब। जखन कोनों प्रयोजन पड़त आ ओ सभ लगमे नहि रहत त एतेँ स गद्दह करबै… लूटन, भूखन, छोटन, चोर हौ!!

इहो पढू : मैथिली किस्सा – ‘गोनू झा’ के स्वर्ग से बजाहट

पंडिताइनकेँ एहि असमयक गोनू-लीला पर हँसी लागि गेलनि। मुदा गोनू झा रओ थम्हिये नहि रहल छलाह। लगातार चिकरि-चिकरि बकने जा रहल छलाह। कि तखने पड़ोसी सभ लट्ठ ल ल क हुनक घरक मुँहथरि पर पहूँचि गेलनि आ केबाड़ पीट लगलनि। गोनू चट्ट चौकी परसं फानि केबाड़ लग पहूँचि छिटकिल्ली खोलि देलनि। समवेत स्वरमे प्रशन छुटल – कत हो?

गोनू झा कहलखिन – “हे वैह, धरनि पर हो!”, गोनू झा इशारा करैत कहलथिन। आ बड़ सुभिस्तासं सभ चोर पकड़ा गेल तथा लट्ठधारी सभक प्रतापे ओकरा सभक नह-नह थुरि देल गेलै। आहां के एत ई बुझि लेबाक थिक जे लूटन झा, भूखन चौधरी आ छोटन कामति हुनक पड़ोसी सभक नाम रहनि छल। गोनू झा के इ चालाकी के सब तारीफ केलक।

गोनू झा के और किस्सा पढ़ैय के लेल क्लिक करू।

मैथिली समाचार से जुड़ल सब नब नब खबर जानै के लेल हमरा फेसबुक गूगल प्लस पर ज्वॉइन करू, आ ट्विटर पर फॉलो करू...
Web Title: मैथिली किस्सा – गोनू झाक चारिटा बेटा

(Read all latest Maithili News, Gonu Jha News Headlines in Maithili and Stay updated with Maithili Samachar)

error: