Wednesday, October 5, 2022

एक बेर दुर्गेश बाबु ओफिस स थाकल अपन घर पहुंचलाह – मैथिली चुटकुला

मैथिली चुटकुला: एक बेर दुर्गेश बाबु ओफिस स थाकल अपन घर पहुंचलाह, कनिया स कहलखिंह - हे सुनय छी... एक कप चाय बनाबु ने माथ मे दर्द जकां बुझा रहल अछि... हुनकर कनिया कोनो बात के ल क फुलल छलीह...

Wife Husband Maithili Jokes

एक बेर दुर्गेश बाबु ओफिस स थाकल अपन घर पहुंचलाह

कनिया स कहलखिंह – हे सुनय छी… एक कप चाय बनाबु ने माथ मे दर्द जकां बुझा रहल अछि…

हुनकर कनिया कोनो बात के ल क फुलल छलीह

कनिया कहलखिंह – हमरा बुते नय हैत… गर्दन मे बहुते दर्द भ रहल अछि… पिबै के अछि त अपने बना लिय…

दुर्गेश भाय – फेर नौंटकी चालु क देलियै…

कनिया – नय… हम सच कहि रहल छी…

दुर्गेश भाय – सचे… तखन इम्हर आबु हम ठीक क दय छी…

कनिया – केना करब… पहिले बताबु…

दुर्गेश भाय – किछ जादा कर नय पड़त… आहां हमर माथा जोर स दबाउ और हम आहा के गर्दन जोर स दबा दय छी… दुनो गोटे के ठीक भ जैत…

इ सुनिते धरि कनिया चुपचाप चाय बनाव चली गेलीह।

मैथिली चुटकुला और पढ़ैय के लेल क्लिक करू।

मैथिली समाचार से जुड़ल सब नब नब खबर जानै के लेल हमरा फेसबुक गूगल प्लस पर ज्वॉइन करू, आ ट्विटर पर फॉलो करू...
error: Content is protected !!